top of page
  • Prashant

नया सफर



जब हम नए शब्द की बात करते है तो लगता है की हम पुरानी चीजों को छोड़कर कुछ अलग करने जा रहे है परंतु हम अपने पुराने कार्य और तजुर्बे को नहीं छोड़ते वरन् पुराना तजुर्बा हमारे आने वाले नए कार्य में एक बूस्टर साबित होता है।



इसी क्रम में मैंने भी अपने जीवन में परिवर्तन को देखा है कही न कही हम नई चीजों से अपने जीवन में परिवर्तन को देखते है। और परिवर्तन ही संसार का नियम है इस बात से कोई अछूता नहीं है और इसी परिवर्तन को मैं भी इस ब्लॉग के माध्यम से बताना चाहता हूं।



ऐसा कुछ नहीं जो हम न कर सके, कमी है तो बस एक अच्छी शुरुआत की, निरंतर लक्ष्य की तैयारी में रहना अगर हमें अपने लक्ष्य को पाना है तो अवश्य ही उसके लिए उस विषय की समस्त जानकारी के साथ साथ उस पर गहन चिंतन के साथ मेहनत करके हम अपने लक्ष्य को अवश्य ही प्राप्त कर सकते है । अगर हम बीच में एक दिन भी अपने लक्ष्य को अकेला छोड़ते है तो मेरा मानना है की वो हमसे 1 महीना दूर हो जाता है । इसलिए निरंतरता बनाए रखना बहुत आवश्यक है । और यह केवल हमारे लक्ष्य प्राप्ति के लिए ही नहीं बल्कि रोजमर्रा के काम पर भी ये नियम लागू करता है । 


मेरे नए सफर में मैं इस बात को हमेशा अपने साथ लेकर चलूंगा और चाहूंगा हर दिन कुछ नया सीखूं । सीखना कभी बंद न करूं। अगर हमारा सीखना बंद होता है तो कही न कही हम अपने आप को समाज में सबसे पीछे खड़े व्यक्ति की तरह महसूस करते है जिसको दूसरो की बाते सुनकर चुप रहना पड़ता है और उनकी हां में हां रखनी पड़ती है यदि हम अप टू डेट होंगे तो अपनी बात को आगे रख पाएंगे और डिबेट के लिए हमेशा तैयार होंगे । 




Written by Vinit

14 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


bottom of page